चंद्रग्रहण

चंद्रग्रहण

चंद्रग्रहण

जो चीज चंद्रमा के एक पूर्ण चक्र के दौरान 28 दिनों में होती है, वह चंद्रग्रहण के दौरान ग्रहण के दो से तीन घंटे के भीतर सूक्ष्म रूप में घटित होती है। ऊर्जा के अर्थों में पृथ्वी की ऊर्जा गलती से इस ग्रहण को चंद्रमा का एक पूर्ण चक्र समझ लेती है। पृथ्वी ग्रह में कुछ ऐसी चीजें घटित होती हैं, जिससे अपनी प्राकृतिक स्थिति से हटने वाली कोई भी चीज तेजी से खराब होने लगती है।

यही वजह है कि कच्चे फलों और सब्जियों में कोई बदलाव नहीं होता, जबकि पका हुआ भोजन ग्रहण से पहले जैसा होता है, उसमें एक स्पष्ट बदलाव आता है। जो पहले पौष्टिक भोजन होता है, वह जहर में बदल जाता है। जहर एक ऐसी चीज है जो आपकी जागरूकता को नष्ट कर देता है। अगर वह आपकी जागरूकता को छोटे स्तर पर नष्ट करता है, तो आप सुस्त हो जाते हैं। अगर वह एक खास गहराई तक आपकी जागरूकता नष्ट कर देता है, तो आप नींद में चले जाते हैं। अगर कोई चीज आपकी जागरूकता को पूरी तरह नष्ट कर देता है, तो आपकी मृत्यु हो जाती है। सुस्ती, नींद, मृत्यु – यह बस क्रमिक बढ़ोत्तरी है। इसलिए पका हुआ भोजन किसी सामान्य दिन के मुकाबले कहीं अधिक तेजी से एक सूक्ष्म रूप में सड़न के चरणों से गुजरता है।

अगर आपके शरीर में भोजन मौजूद है, तो दो घंटे के समय में आपकी ऊर्जा लगभग अट्ठाइस दिन बाद की अवस्था में पहुंच जाएगी। क्या इसका मतलब है कि आप ऐसे दिन कच्चा भोजन कर सकते हैं? नहीं, क्योंकि भोजन जैसे ही आपके शरीर में प्रवेश करता है, आपके पेट में मौजूद रस या सत्व उस पर हमला करके उसे मार देते हैं। वह आधे पके भोजन की तरह हो जाता है और उस पर भी ग्रहण का वही असर होगा। इसका संबंध केवल भोजन से नहीं है। आप जिस रूप में है, उस पर भी इसका असर पड़ता है। अगर आप जो हैं, उसके सहज आयाम से किसी भी रूप में अलग हटते हैं, तो आपका इन शक्तियों के शिकार बनने का खतरा ज्यादा होता है। अगर आप अपनी सहज स्वाभाविक अवस्था में हैं, तो इन शक्तियों का आप पर बहुत कम असर होता है।

चंद्रमा के चक्रों का मानव शरीर पर शारीरिक, मनोवैज्ञानिक और ऊर्जा के स्तर पर प्रभाव पड़ता है। हमारी माताएं अपने मासिक चक्रों से जिस तरह गुजरीं, उससे यह स्पष्ट होता है। मैं माताओं की बात इसलिए कर रहा हूं क्योंकि हमारी माताओं के चंद्रमा के साथ तालमेल में होने के कारण ही हम पैदा हुए। अगर हमारी माताओं के शरीर चंद्रमा के तालमेल में नहीं होते, तो हम आज यहां नहीं होते। जब चंद्रमा दो से तीन घंटे के समय में एक पूरे चक्र से गुजरता है, तो हमारी सभी माताओं के शरीरों में कुछ भ्रम की स्थिति होती है। यह किसी आदमी के शरीर में भी होता है क्योंकि आपकी माताएं एक खास रूप में आपमें मौजूद होती हैं – भौतिक रूप में नहीं मगर दूसरे रूपों में।

जब शरीर भ्रम की स्थिति में होता है, तो उसे जितना संभव हो, खाली रखना और यथा संभव चेतन रखना सबसे बेहतर होता है। चेतन रहने का सबसे आसान तरीका है, न खाना। तब आप लगातार कम से कम एक चीज के प्रति चेतन होंगे। और जैसे ही आपका पेट खाली होता है, चेतन होने की आपकी क्षमता काफी बेहतर हो जाती है। आपका शरीर अधिक पारदर्शी हो जाता है और आपके शरीर में क्या घटित हो रहा है, आप उस पर काफी बेहतर तरीके से ध्यान दे पाते हैं। एक आध्यात्मिक साधक के लिए ग्रहण का यह मतलब होता है कि हम सिर्फ तीन घंटों में एक पूरा महीना गुजार देते हैं। चंद्रमा के अलग-अलग पहलू, चंद्रमा की अट्ठाइस कलाएं आप इन तीन घंटों में देख देते हैं – बालचंद्र से लेकर, अमावस्या और फिर पूर्णिमा तक। एक तरह से आपका जीवन ‘फास्ट-फॉरवर्ड‘ यानि तेज गति से गुजरता है।

दरअसल आध्यात्मिकता का मतलब भी यही होता है- तेज रफ्तार से जीवन का घटित होना। इसका यह मतलब नहीं है कि हम कोई अलग रास्ता अपना रहे हैं, बस हम अपने जीवन को तेज गति से ले जाते हैं। अगर आप पैदल चल रहे हैं, तो आप रास्ते का नजारा देख सकते हैं- कि पेड़ों पर आम हैं या नहीं। आप उन्हें तोड़ कर खा भी सकते हैं। रास्ते में आप कहीं भी ठहर सकते हैं, पिकनिक कर सकते हैं। मगर यदि आप किसी हवाईजहाज में हों, तो आप रास्ते में आम नहीं तोड़ सकते। नीचे हजारों एकड़ में आम के बागान हो सकते हैं मगर आप उन्हें देख तक नहीं सकते क्योंकि आप एक खास गति में और ऊंचाई पर होते हैं। तो हम तेज गति पर हैं, ऐसा नहीं है कि हमारी आम से कोई दुश्मनी है, मगर गति और ऊंचाई के कारण हम उन्हें तोड़ नहीं सकते।

Top ten astrologers in India – get online astrology services from best astrologers like horoscope services, vastu services, services, numerology services, kundli services, online puja services, kundali matching services and Astrologer,Palmist & Numerologist healer and Gemstone,vastu, pyramid and mantra tantra consultant

Translate
X